नवीनतम पोस्ट

Tuesday, March 3, 2009

बदला ना अपने आप को - Badala na apne aap ko

बदला ना अपने आप को जो थे वही रहे
मिलते रहे सभी से मगर अजनबी रहे


दुनिया ना जीत पाओ तो हारो ना ख़ुद को तुम
थोडी बहुत तो ज़हन में नाराज़गी रहे


अपनी तरह सभी को किसी की तलाश थी
हम जिसके भी करीब रहे दूर ही रहे


गुजरो जो बाग़ से तो दुआ मांगते रहे
जिसमें खिले हैं फूल वो डाली हरी रहे

0 comments: